कानून व्यवस्था:-

pp.jpg

1. संगठन सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकारणी सदस्यों चाहें व युवा हो,पुरूष हो अथवा महिलाएं हो सभी को समान दृष्टिकोण से देखता है और किसी पदाधिकारियों तथा सदस्यों को अपनी मनमानी करने की आज्ञा प्रदान नही करता है।

2. संगठन के नाम पर कोई भी किया गया कार्य समाज,धर्म ,देश, के हित हेतु होगा और अगर किसी भी गलत कार्य मे किसी भी जाति ,सम्पद्राय ,धर्म और देश को समस्या तथा आपत्ति हुई तो उस कार्य को सहयोग न करते हुए उसका खंडन कर अनुशासन तोड़ने वाले के विरुद्ध कार्यवाही करेगा।

3.आज के आधुनिक काल में सोशल मीडिया का कार्य उन्नति पर है और संगठन सभी पदाधिकारियों तथा सदस्यों से अपेक्षा रखता है कि आप सोशल मीडिया का उपयोग सही कार्य के लिए करते हुए प्रचार प्रसार एवं जन तथा राष्ट्र कल्याण हेतु करते रहेंगे अगर आप जन तथा राष्ट्र कल्याण के विरुद्ध कार्य करते है तो संगठन इसको संज्ञान में लाते हुए उचित कार्यवाही करेगा। 

 

4. कोई भी कार्य करने से पहले संगठन को जानकारी अवश्य दें अन्यथा उस कार्य के उत्तरदायी आप स्वयं होंगे।

 

5. 18 वर्ष की कम आयु के बालक/बालिका को संगठन में न लिया जाये तथा उन्हें किसी भी प्रकार का दायित्व तथा पद न दिया जाये संगठन इसकी घोर निंदा करता है तथा निर्देश देता है कि निर्धारित वर्ष से कम बालक तथा बालिकाओं को अगर संगठन से जुड़ना है तो उनके स्वेक्षा अनुसार कार्यकारणी सदस्य बनाया जाए तथा 18 वर्ष की आयु पूर्ण होने के बाद उन्हें उचित दायित्व प्रदान किया जायेगा. 

 

6. संगठन में पुरुषों तथा स्त्रियों का सम्मान एक समान है और इसलिए अपने पद प्रतिष्ठा को ध्यान में रखते हुए दोनों वर्गों को यह सूचित किया जाता है की अपनी तथा संगठन की मर्यादा बनाये रखे तथा किसी भी प्रकार का अभद्र व्यवहार संगठन नज़रअंदाज़ नहीं करेगा तथा गलत या अभद्र कृत्य में संलिप्त पाए जाने पर उचित कार्यवाही करेगा. 

 

7. संगठन में जितने भी पदाधिकारी तथा कार्यकारणी सदस्य है उन्हें आपस मे सम्मान करना होगा जिससे संगठन के वैदिक संस्कार प्रस्तुत होंगे तथा सभी अपने से वरिष्ठ पदाधिकारियों के कथन का भी पालन कर बातों का मान रखना होगा और कोई भी उच्च पदाधिकारी अपने से नीचे पदाधिकारी या सदस्य को गलत आदेश नही देगा।अगर ऐसा होता है तो कारण बताओ नोटिस के माध्यम से आपको संतोषजनक जवाब देना होगा।
 
8. सभी उच्च पदाधिकारियों को ये सूचित किया जाता है की अपने से नीचे वाले पदाधिकारियों का सम्मान करे तथा उनपे किसी भी प्रकार का ज्यादा भार न दे अगर वो व्यक्ति अपना कार्य तथा दायित्वों का निर्वहन नहीं कर पा रहा है,उसे वर्तमान पद से पद मुक्त कर जो उचित पद हो वह दें या सदस्य के रूप में नियुक्त करें।

 

9. जिन सदस्यों को संगठन में नियुक्ति किया जा रहा है उसकी समस्त जानकारी जिम्मेदार पदाधिकारी अपने पास रखे, उचित समय आने पर संगठन किसी का विवरण मांगता है तो जिम्मेदार पदाधिकारी उपलब्ध कराएगा।

 

10. सभी पदाधिकारियों को नियुक्त करने के बाद उनको उनका दायित्व बताया जाये जिससे कार्यकारणी का विस्तार सुचारू रूप से हो सके।

 

11. समय की मांग के अनुसार और कानून व्यवस्था में फेरबदल किया जाएगा जिसकी सूचना आपको दिया जाएगा।

 

12. सभी पदाधिकारियों को इन नियमों का प्रतिज्ञा स्वरूप निरंतर पालन करना अनिवार्य है तथा उलंघन करने पर कार्यवाही किया जाएगा।

 

13. हर जिले का अपना संगठन का ऑफिसियल व्हाट्सएप्प ग्रुप बनेगा जिसमे वही सदस्य रहेंगे जो नियुक्त किये गए हो तथा लिंक को किसी बाहरी आदमी को नही भेजा जाएगा तथा जिले से संबंधित निर्देश आपको उस पर प्राप्त होगा और आपस मे कोई भी अपशब्द भाषा का इस्तेमाल नही करेगा और न ही अनावश्यक पोस्ट डालेगा तथा ग्रुप के नाम व लोगो से कोई छेड़खाड़ करेगा। केवल सनातन धर्म,हिंदुत्व,समाज कल्याण से संबंधित पोस्ट डालेगा।

 

14. कोई भी सदस्य बिना बताए ग्रुप को नही छोड़ेगा अगर छोड़ना है तो छोड़ने से पहले कारण बताना अनिवार्य है तथा आपसी विवाद से आपस मे बचेगा और अन्य व्यक्ति किसी तरह की टिप्पणी या अनावश्यक वार्तालाप नही करेंगें।

 

15. हर जिले का अपना संगठन का ऑफिसियल फेसबुक एकाउंट और ग्रुप खुलेगा तथा संगठन, सनातन धर्म, हिंदुत्व  से संबंधित पोस्ट डालेंगे।

 

16. हर जिले का अपना संगठन का ऑफिसियल ट्विटर एकाउंट खुलेगा जिसमे कोई भी समाज मे गलत गतिविधियों को रोकने के लिए एकजुट होकर ऊपर तक अपनी आवाज़ को पहुँचाया जाएगा।

 

17. बहुधा देखा जा रहा है कि आजकल बहुत से साइबर क्राइम हो रहे हैं जिसमें अनेकों भाई-बहन माता-पिता के अकाउंट से छल से पैसे निकाल दिए जा रहे हैं लेकिन सोशल मीडिया पर यह भी देखा जा रहा है कि दूसरे धर्म के  अनेकों लोग  अपने नाम को चेंज कर हिंदू नाम की आईडी बना दे रहे हैं और हिन्दूवादी संगठनों में जुड़ रहे हैं और अपने गंदे विचारों से संगठन  में गंदगी फैलाते हैं। इस पर हम सब लोग मिलकर तभी लगाम लगा सकते हैं जब जुड़ने वाले सदस्य की पहचान पत्र हमारे पास हो।आपके कोई मित्र या रिश्तेदार हो या अन्य माध्यमों से आपसे कोई जुड़ा हो उन्हें सदस्यता देने से पहले उनकी आधार कार्ड/वोटरid या अन्य पहचान पत्र अवश्य मांगे तभी उनकी नियुक्ति सुनिश्चित करें।

 

18. विश्व हिंदू रक्षा वाहिनी संगठन किसी भी राजनीतिक दल को सपोर्ट नहीं करता है अगर कोई राजनीतिक पार्टी जातिवाद से हटकर हिंदुत्व के लिए कार्य करते हैं तो संगठन उनका सहयोग करता है।